यदि वर्ल्ड कप जितना है भारत को, तो रोहित को दूर करना होगा टीम की 5 कमियां

rohit

किसीभी काम को सही करने के लिए पहले उसमें मौजूद कमियों को दूर करना चाहिए, वर्ल्ड कप जीतने के लिए कप्तान रोहित शर्मा अपने टीम के संग कुछ ऐसा ही कर रहे हैं

क्रिकेट में अभी काफी कुछ बदलाव किए गए हैं, सर्वप्रथम भारतीय टीम के कप्तान का भी बदलाव किया गया, अभी चयनित रोहित शर्मा भारतीय टीम के कप्तान है, लोगों की उम्मीदें उनसे अब काफी बढ़ गई है कि शायद वह वर्ल्ड कप एक बार फिर भारत के लिए जीत सके,, वैसे तो हमारी टीम में काफी कुछ कमियां है लेकिन कप्तान रोहित शर्मा टीम इंडिया को वर्ल्ड चैंपियन बनाने के लिए काफी तेजी से तैयारी में जुट गए हैं।

वैसे तो रोहित शर्मा की कप्तानी में भारत बनाम वेस्टइंडीज का वनडे तथा T20 सीरीज काफी अच्छा रहा, इनके खेल के प्रदर्शन से यह अंदाजा लगाया जा रहा है कि वर्ल्ड कप में इनकी दावेदारी प्रबल रहेगी, सर्वप्रथम रोहित शर्मा उन कमियों को दूर करना चाह रहे हैं जिससे आईसीसी मे यह टीम पिछड़ गई थी।

पहले तो कमी भारतीय टीम में यह है कि उनकी टीम स्थिर नहीं है, अर्थात एक या दो मैच में अगर किसी खिलाड़ी ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया तो उसे टिकने नहीं दिया जाता, या फिर मैच के तुरंत पहले टीम में कोई खास बदलाव कर दिया जाता है, जिससे मैच में मौजूद खिलाड़ियों का आत्मविश्वास कम हो जाता है और प्रदर्शन में उनकी गिरावट देखी जाती है, हर खिलाड़ी को यह लगता है कि शायद अगला मैच ना खेल पाऊं,

rohit

वहीं कप्तान रोहित शर्मा को अपनी टीम में ऑलराउंडर खिलाड़ियों को ज्यादा से ज्यादा मौका देना चाहिए, क्योंकि अगर कोई खिलाड़ी गेंदबाजी के संग बल्लेबाजी भी अच्छी करें तो टीम की ताकत दुगनी हो जाती है, अगर हम 2011 की इंडिया टीम से तुलना करें तो उस समय काफी ज्यादा खिलाड़ी ऐसे थे जो कि बल्लेबाजी के संग अच्छी गेंदबाजी भी करना जानते थे, चाहे वह युवराज सिंह हो या सचिन तेंदुलकर वीरेंद्र सहवाग सुरेश रैना यूसुफ पठान सभी दोनों ही चीजों में माहिर थे ,अभी तक हमारी टीम भी यह काम हार्दिक पांड्या ही कर रहे थे लेकिन कमर की चोट की वजह से वह अभी गेंदबाजी करने में असमर्थ है।

भारतीय टीम में मिडिल ऑर्डर के भी खिलाड़ियों का स्ट्रांग होना जरूरी है क्योंकि कई बार अगर ओपनर खिलाड़ी आउट हो जाता है तो सारी जिम्मेदारी मिडिल ऑर्डर की खिलाड़ियों पर आ जाती है, ऐसी परिस्थिति में रोहित शर्मा को भी मिडिल ऑर्डर में स्ट्रांग खिलाड़ियों को लेने की आवश्यकता है।
भारतीय टीम में स्पिनर की भी काफी आवश्यकता है, क्योंकि भारत की ताकत स्पिन गेंदबाजी में ही रहती है हर समय भारत के पास एक से एक अच्छे स्पिन गेंदबाज रहे हैं परंतु अभी हमारी टीम में मात्र यजुवेंद्र चहल ही एक स्पिनर है, परंतु अभी भारत बनाम वेस्टइंडीज t20 सीरीज में युवा स्पिन गेंदबाज रवि बिश्नोई का भी डेब्यू कराया गया है इसके अलावा राहुल चाहर भी हमारे यहां स्पिन गेंदबाज है, अतः इन सबो में से बेहतर का चुनाव उन्हें करना है।

वहीं भारतीय टीम के ओपनर खिलाड़ी भी अच्छे होने चाहिए अभी तक तो रोहित शर्मा ओपनिंग करते आ रहे हैं, अभी भारतीय टीम के पास कई ओपनर खिलाड़ी है जैसे कि केएल राहुल इशान किशन शिखर धवन ऋतुराज गायकवाड वेंकटेश तथा भी ऋषभ पंत से भी अपनी करवाई गई, हर मैच में ओपनिंग खिलाड़ी को बदल देने से यह साफ जाहिर होता है कि, हर खिलाड़ी का अभी टीम में क्या स्थान है यह तय नहीं हो पाया है, अतः सर्वप्रथम रोहित शर्मा को उनका रोल स्पष्ट कर देना चाहिए, ताकि उनकी स्थिरता बरकरार रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top