61 हजार रन, 199 शतक, 501 रन की पारी, कभी नहीं टूट पाएंगे ये 10 बड़े रिकॉर्ड,

CRICKET RECORD

अंतराराष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत दो टीमों इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच साल 1877 में खेले गए पहले टेस्ट मैच आरंभ हुआ था । क्रिकेट के 145वर्ष के लंबे इतिहास मे ऐसे कई रिकॉर्ड बन गए हैं जिनका टूटना लगभग अंसभव प्रतीत होता है। एक नजर डालते है ऐसे ही 10 रिकॉर्डों के बारे में जो शायद ही कभी टूटेंगे। रिकॉर्ड बनते ही है टूटने के लिए पर इन रेकोर्डो को पीछे छोड़ना बिल्‍कुल उम्मीद करने लायक भी नहीं है ।

आइये जानते है 10 बड़े रिकॉर्ड के बारे में

कुछ प्रमुख असंभव कीर्तिमान जैसे ऑस्‍ट्रेलिया के महान बल्‍लेबाज डॉन ब्रैडमैन का टेस्ट केरियर मे 99 औसत हो या फिर वेस्‍टइंडीज के ब्रायन लारा का 400 रनों का व्यक्तिगत टेस्‍ट स्‍कोर. ऐसे 10 जबरदस्‍त रिकॉर्ड के बारे में नजर डालते है –

1-उच्‍चतम करियर बल्‍लेबाजी औसत

ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज डॉन ब्रैडमैन का टेस्‍ट करियर बल्‍लेबाजी औसत 99.94 का है. अगर ब्रैडमैन अपने आखिरी टेस्ट मैच मे चार और रन बना लेते तो उनका बल्‍लेबाजी औसत 100 का हो जाता. ब्रैडमैन का यह शानदार रिकॉर्ड टूटने की उम्‍मीद न के बराबर ही है. इसके बाद दूसरे नंबर पर हम वतन ऑस्‍ट्रेलिया के एडम वोजेस का नाम है जिनकी टेस्ट केरियर मे औसत 61.87 के औसत से बल्‍लेबाजी की.

2-इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेटः

श्रीलंका के ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक 800 और वनडे में सर्वाधिक 534 विकेटों समेत इंटरनेशनल क्रिकेट में 1334 विकेट लिए हैं जोकि विश्व रिकॉर्ड है। मुरलीधरन का ये रिकॉर्ड टूटना लगभग असंभव है। इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेटः क्रिकेट इतिहास के महानतम गेंदबाजों में शुमार रहे

3- क्रिकेट करियर में सबसे ज्‍यादा रन

इंग्‍लैंड क्रिकेट के दिग्‍गज सर जैक हॉब्‍स के नाम प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 61760 रन हैं, जो विश्‍व रिकॉर्ड है. उन्‍होंने ये रन 834 मैचों में बनाए हैं. इसमें 199 शतक भी दर्ज हैं जो खुद अपने आप में एक और विश्‍व कीर्तिमान है. उन्‍होंने 273 अर्धशतक भी लगाए हैं

4-100 इंटरनेशनल शतकों का रिकॉर्ड:

क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने करियर में 100 इंटरनेशनल शतक (51 टेस्ट, 49 वनडे) लगाए हैं. सचिन के बाद इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर मौजूद रिकी पॉन्टिंग (71 शतक) अब संन्यास ले चुके हैं। सचिन का ये रिकॉर्ड टूटना लगभग असंभव है। लेकिन सचिन और पॉन्टिंग के बीच एक बड़ा फासला रहा। अभी ये कह पाना मुश्किल है कि विराट कोहली या बाबर आजम मे दोनों मे कौन सचिन के इस रेकॉर्ड के पास भी पहुँच भी पाएगा ।

5-टेस्ट क्रिकेट में व्यक्तिगत 400 रन की पारीः

लारा की इस पारी का टूटना लगभग नामुमकिन है।लारा के नाम टेस्ट क्रिकेट में 400 रन की पारी खेलने का रिकॉर्ड है जो टेस्ट क्रिकेट में सबसे बड़े व्यक्तिगत स्कोर का रिकॉर्ड है। उन्होने 2004 मे इंग्लैंड के खिलाफ यह पारी खेली थी ।

6- एक वनडे मैच में 8 विकेट

श्रीलंका के खब्बू गेंदबाज चामिंडा वास ने 2001 में सिर्फ 19 रन देकर 8 विकेट लिए थे. आज तक उनके रिकॉर्ड की कोई बराबरी तक नहीं कर पाया.

7-अपने डेब्यू मैच में दोहरा शतक और शतकः

वेस्टइंडीज के लॉरेंस रो ने 1971-72 में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने डेब्यू मैच में 214 और 100* रन की पारी खेलते हुए अपने डेब्यू मैच में दोहरा शतक और शतक जड़ने वाले क्रिकेट इतिहास के एकमात्र बल्लेबाज बने थे। लॉरेंस रो का ये रिकॉर्ड टूटना लगभग नामुमकिन हैं।

8-सबसे उम्रदराज टेस्‍ट क्रिकेटर

इंग्‍लैंड के महान ऑलराउंडर विलफ्रेड रोड्स के पास अटूट रिकॉर्ड की हैट्रिक बनाने का मौका था. विल्‍फ्रेड ने 52 साल 165 दिन की उम्र में अपना आखिरी टेस्‍ट खेला था। इस रिकॉर्ड का टूटना लगभगन नामुमकिन ही है. इस मामले में ऑस्‍ट्रेलिया के बर्ट आयरनमोंगर दूसरे नंबर पर हैं जिन्‍होंने 50 साल 327 दिन की उम्र आखिरी टेस्‍ट खेला

9- नाइट वॉचमैन का उच्‍चतम स्‍कोर

यह वर्ल्ड रेकॉर्ड 2006 के टेस्‍ट मैच का है. मैच चटगांव में खेला गया और ऑस्‍ट्रेलिया के तेज गेंदबाज जेसन गिलेस्‍पी ने नाइट वॉचमैन के तौर पर उतरने के बाद नाबाद 201 रन की पारी खेली थी

10 – सबसे कम अवधि का टेस्ट मैचः

1932 में ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच टेस्ट मैच मे दक्षिण अफ्रीकी टीम ऑस्ट्रेलिया के 153 रन के जवाब में दोनों पारियों में महज 36 और 45 के स्कोर पर सिमट गई महज 5 घंटे में ही खत्म हो गया था और ऑस्ट्रेलिया ने टेस्ट इतिहास के इस सबसे कम समय मे ख़त्म होने वाले इस मैच को एक पारी और 72 रन से जीता।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top